Skip to main content

Latest Hindi attitude shayari, best hindi attitude shayari, attitude status

New hindi attitude shayari
1.मेरी आंखो में जो तुम देख रहे हो वो कोई मामूली चिंगारी नहीं है और हमारे महोले में आ कर हमें ही ललकार रहे हो लगता है तुम्हे जान प्यारी नहीं है
meri aakho me jo tum dekh rahe ho vo koi mamuli chingari nahi he aur hamare mahole me aakar hame hi lalkar rahe ho lagataa he tumhe jaan pyari nahi he 

2.मौत से रूबरू अभी करवा दूंगा, मेरी आखों में आखे डालकर बात तो करले और क्या कहा था मेरा वंश मिटा देगा , अरे पहले अपने वंस की शुरुआत तो करले
maut se rubru abhi karva dunga meri aakho me aakhe daalkar baat to karle aur kya kaha tha mera vansh mitaa dega , are pahle apne vansh ki suruaat to karle

3.दुनिया बुरे वक़्त से दर जाती है और में बुरे वक़्त को अपना हुज़ूर मानता हूं और कल क्या होगा में कुछ नहीं जानता  कल कुछ करना है ये जरूर जानता हूं
duniya bure waqt se dar jaati he aur me bure waqt ko apna hujur maanta hu aur kal kya hoga me kochh nahi jaanta kal kuchh karna he jarur jaanta hu

4.बस एक बार बेडिया खुलने की दर है इन सारे परिंदो को मिट्ठी में जकड़ लूंगा,और तुम मांगते रहेना अपन…

Contact us

Contact Us

If you have any query regrading Site, Advertisement and any other issue, please feel free to contact at dabhijatinsinh@gmail.com

Comments

Popular posts from this blog

Latest Dosti shayari, friendship shayari, dosti shayari image

Latest Dosti shayari, friendship shayari, dosti shayari image
1.rista
Pyar karne valo ki kismat buri hoti he har Milan judai se hoti he risto ko bhi kabhi parakh Kar dekhna dosti har riste se badi hoti he 
प्यार करने वालों की किस्मत बहुत बुरी होती है, और  हर मिलन जुदाई से होता है, रिस्तो को कभी परख कर देख लेना दोस्ती हर रिश्ते से बड़ी होती है!

2.Dard

Dard ko dard se na dekho Dard ko bhi dard hota he Dard ko jarurat he dost ki Aakhir dost hi dard me hamdard hota he 
दर्द को दर्द से ना देखो दर्द को भी दर्द होता है दर्द को जरूरत है दोस्त की आखिर दोस्त ही दर्द में हमदर्द होता है 
3.Vafa

Gunah karke sajaa se darte he Zahar pi ke davaa se darte he Dusmno ke sitam ka khouf nahiHam to dosto ki vafa se darte he 
गुनाह करके सज़ा से डरते हैं जहर पी के दवा से डरते हैं दुश्मनों के सितम का खौफ नहीं हम तो दोस्तों की वफ़ा से डरते हैं
4.khun ka rista

Kyu muskilo me sath dete he dost Kyu gam ko baat lete he dost Na rista khun ka ka rivaaj se bandha Fir bhi jindgi bhar sath dete he dost 
क्युँ मुश्किलों में साथ देते…

Hindi attitude shayari , new attitude shayari

attitude shayari:-
                            1.Ye to ham he jo apna pyar nibha rahe he jis din chodkar chale jayenge aukaat pata chal jayegi
ये तो हम है कि जो अपना प्यार निभा रहे है,जिस दिन छोड़कर चले जायेंगे‪ औकात  पता चल जाएगी तुझे खुद की 
                          2.

Andaz kuch alag he mera sab ki attitude ka shouk he muze attitude todne ka 
अंदाज़ कुछ अलग है मेरा सब को ATTITUDE का शौक है, मुझे ATTITUDE तोडने का
                       3.

Ham bhi navab he logo ki akadDhue ki tarah udakar aukat sigaretKi tarah choti kar dete he 
हम भी नवाब है लोगों  की अकड़ धूएँ  की तरह उड़ाकर, औकात सिगरेट  की तरह छोटी  कर देते है ।
                     4.

Pareshan na hua karo logo ki baato se kuch log peda hi bakvas karne ke liye hote he 
परेशान ना हुआ करो लोगों की बातों से कुछ लोग पैदा ही बकवास करने के लिए हुए होते हैं।
                        5.
Rahe badle ya badle waqt ham to apni manzil payenge jo samzate he khud ko badshah bhi ek din use apne darbar me jarur nachayenge 
राहें बदले या बदलेवक्त, हम तो अपनी मँ…

Hindi dard shayari, new dard shayari, sad shayari

Hindi dard shayari
                          1.
हम हारे है तो क्या हुआ ज़माने से,कुछ पानी ही तो छलका है पैमाने सेखुद से जीत जाए बस एक ख्वाब बाकी हैमद होस करने लायक सराब उनके लबो पर ही काफी है,
ham hare he to kya hua zamane se kuch pani hi ti chalaka he pemane sekhud se jit jaaye bas ek khvab baaki hemadhis karne layak sarab unke labo par hi kafi he                           2.
शायद पुराना कोई ज़खम भर गया हैआपके आशु क्यों नहीं रुक रहेक्या आखो में आपकी गगन भर गया है ।
shayad purana koi zakhm bhar gaya he aapke aashu kyo nahi ruk rahekya aakho me aapki gagan bhar gaya he
                           3.
उसके जैसी मुझे अपनी जुबानी करनी पड़ी कर तो सकता था बाते इधर उधर की बहोटमगर कुछ लोगो में बाते मुझे खानदानी करनी पड़ीअपनी आंखो से देखा था मंज़र बेवफ़ाई कासुना तो फ़िज़ूल हैरानी करनी पड़ी।
uske jesi muze apni jubani karni padi kar to sakhta tha baate idhar udhar ki bahot magar kuch logo me baate muze khandani karni padi apni aakho se dekha. tha manzar bewfaika suna to fizul herani karni padi

           …