Skip to main content

Hindi romantic shayari, latest romantic shayari

  Hindi romantic shayari 1. मुझे फ़िज़ूल में गालियां बक रहे हो तुम मैने उसका दिल नहीं तोड़ा, वो खुद चली है मुझे छोड़ कर मैने उसे नहीं छोड़ा muze fizul me gaaliya bak rahe ho tum mene uska dil nahi toda, vo khud chali he muze chhodkar mene use nahi chhoda 2. सुना था कि सिशा बेवफाओं को देखकर टूट जाता है, वो सामने थी मैने इसे नहीं तोड़ा sunaa tha ki shisha bewfaao ko dekhkar tut jaata  he, vo saamne thi mene ishe nahi toda 3. मुझसे नाराज़ हो तो आशु बहालो,और लगाना ही है तो गले लगालो ,और ये व्हाट्स इंस्टा की बाते मुझे सामजमे नहीं आती बात ही करनी है तो फोन लगालो muzse naaraz ho to aashu bahaalo,aur lagaana hi he to gale lagaalo,aur ye WhatsApp insta ki baate muze samzme nahi aati baat hi karni he to phon lagaalo 4. रख अपने दिल पर हाथ और पूछ अपने खुदा से तुझे मुझसे ज्यादा कोई चाह सकता है,और में जानता हूं कि तू किस्मत बुरी है,पर एशी बुरी किस्मत अपने लिए कोई मांग सकता हैं rakh apne dil par hath aur puchh apne khuda se tuze muzse jyadaa koi chah skta he,aur me janta hu ki tu kismat buri he,par e

New hindi dard shayari, latest hindi dard shayari

 Hindi dard shayari


1.


जिस मोड़ पर भी मिलती है मेरी जिंदगी मुझसे, उसी जगह उसे लिपट कर जिलेता हूं में, और जब भी लगता है कि में मर जाऊंगा उसके बिना, तो उसकी तस्वीर निकालकर एक दो घूंट पिलेता हूं में 


jis mod par bhi milti he meri jindgi muzse , ushi jagah use lipat kar jeeleta hu me, aur jab bhi lagtaa he ki me mar jaaunga uske beena , to uski tasweer nikalkar ek do ghunt peeleta hu

 

2.


तेरी बेहयाई का हर किस्सा पता है मुझे, तुझसे बिछड़कर में तुझे खोने से डरने वाला नहीं , और तुझे क्या लगा तेरी बीफाई पर फना हो जाऊंगा में, तुझे तेरी उकात दिखाने से पहले मारने वाला नहीं में


3.


teri behyai ka har kissha pata he muze tuzse bichhdkar me tuze khone se dar ne vala nahi, aur tuze laga teri bewfaai par fanaa ho jaunga me , tuze teri okaat dikhane se pahele maarne vala nahi me



4.


मैने उसकी तस्वीर को अबतक संभाल रखा है , इश्क़ ने आज तक मुझे ज़ंजीर में डालकर रखा है


mene uski tasveer ko abtak sambhal rakha he, isqa me aaj tak muze zanziro me daalkar rakha he


5.


खुद ही खराब कर ली है मैने दिल की आदतें, छोटी छोटी बातों पर ये तड़पता बहोट है , और निकालकर फेंक दूंगा एक दिन जब सब्र खत्म हो जाएगा मेरा , तेरी याद आए और आज भी ये धड़कता बहोट है


khud hi kaharab kar li he mene dil ki aadte, chhoti chhoti baato par ye tadpta bahot he, aur nikaalkar fek dunga ek din jab sabr khatm ho jaayrga mera, teri yaad aaye aur aaj bhi ye dhadakta bahot he



6.


मेरे दिल के हुक में एशे कुछ मुस्कान बाकी है, जैसे ख़तम हो गया हो किशा और अंजाम बाकी है, और तुझे खोया मगर लौटने की आश में , मेरी हर आश टूट गई मगर बस तेरा नाम बाकी है


mere dil ke hak me eshe kuchh mushkaan baaki he, jese khatm ho gaya ho kichha aur anjaam baaki he, aur tuze khoya magar lotne ki aash me, meri har aash tut gai magar bas tera naam baaki he


7.


तू बाते धोके की ही करता रहे मुझे, वफा की बाते तेरे होठं पे फ़िज़ूल है, और रकीब को चाहती होगी तेरी खुशियां पाने की  मुझे तो तेरे नाम पर मिला हर ग़म कुबूल है


tu baate dhoke ki hi kartaa rahr muze, wafaa ki baate tere hoth pe feezul he, aur rakib ko chahti hogi teri khushiya paane ki muze to tere naam par mila har gam kubul he



8.


किसी और की हो गई तो क्या मुझे पराया मत करो शक हो जाएगा सबको अब मेरी गली आया मत करो


kishi aur ki ho gai to kya muze paraaya mat karo shak ho jaayega sabko ab meri gali aaya mat karo



9.


मालूम है उम्मीद नहीं बची तुम्हे पाने की कोई, पर मिलने अाओ तो मांग का शिंधुर छुपाया मत करो शक हो जाएगा सब को मेरी गली आया मत करो


maalum he ummed nahi bachi rumhe paane ki koi, par milne aao to mang ka shindhur chhupaya mat karo, shak ho jaayega sab ko meri gali aaya mat karo



10.


चलो तुम्हे आज आप बीती सुना ते है बहोत हसे होना चलो आज रुलाते है, और रोते वक़्त आशु आए तो उन्हें मत पोछना क्यू की ये आशु हमारे दर्द की दास्तां सुनाते है


 chalo tumhe aaj aap biti suna te he, bahot ishe hona chalo aaj rulate he,aur rote waqt aashu aaye to unhe mat puchhana kyu ki ye aashu hamare dard ki dasta sunaate he



11.


आज रुलाले बेशक एक तुझे रोने को दूंगा, आज खो दिया है तूने मुझे लेकिन एक दिन फिर से मेरा होने को दूंगा, और जिन आशुओ को शंभल कर रखा अपनी नज़रों में एक दिन तुम्हे भी रोने को दूंगा


aaj rulale beshak ek tuze rone ko dunga, aaj khi diya he tune muze lekin ek din fir se mera hone ko dunga, aur jin aashuo ko shambhal kar rakha apni nazro me ek din tumhe bhi rone ko dunga



12.


इस्क में प्यार होता है बीफाई नहीं सचे वादे होते है जूठी रुसवाई नहीं,और उसने कश्मे तो बहोट खाई मेरी, लेकिन महॉबत निभानी आई नहीं


isqa me pyar hota he bewfaai nahi sache vaade hote he juthi rushvaai nahi, aut usne kashme to bahot khai meri, lekin mahobbat nibhani aai nahi



13.


ना चाहते हुए भी मुझसे एक रूह का रिश्ता जोड़ लेता है, बस जाता है मेरे ज़हन में फिर मुझे तन्हा सोड जाता है, अकेले अपनाता है भारी महेफिल में अकेला छोड़ जाता है,और उसकी मर्जी है जनाब जब चाहता है दिल लगाता है जब चाहे छोड़ देता है


naa chahte hue bhi muzse ek ruh ka rista jod leta he,bas jaata he mere zahan me fir muze tanha soch jataa he,akele apnata he bhari mahefil me akele sochh jataa he, aur uski marzi he janaab jab chahata he dil lagaata he jab chahe chhod deta he

Comments

Popular posts from this blog

Latest Dosti shayari, friendship shayari, dosti shayari image

  Latest Dosti shayari, friendship shayari, dosti shayari image 1.rista Pyar karne valo ki kismat buri hoti  he har Milan judai se hoti he risto  ko bhi kabhi parakh Kar dekhna  dosti har riste se badi hoti he  प्यार करने वालों की किस्मत बहुत बुरी होती है, और  हर  मिलन जुदाई से होता है, रिस्तो को कभी परख  कर देख लेना दोस्ती हर रिश्ते से बड़ी होती है! 2.Dard Dard ko dard se na dekho  Dard ko bhi dard hota he  Dard ko jarurat he dost ki  Aakhir dost hi dard me hamdard hota he  दर्द को दर्द से ना देखो  दर्द को भी दर्द होता है  दर्द को जरूरत है दोस्त की  आखिर दोस्त ही दर्द में हमदर्द होता है  3.Vafa Gunah karke sajaa se darte he  Zahar pi ke davaa se darte he  Dusmno ke sitam ka khouf nahi Ham to dosto ki vafa se darte he  गुनाह करके सज़ा से डरते हैं  जहर पी के दवा से डरते हैं  दुश्मनों के सितम का खौफ नहीं  हम तो दोस्तों की वफ़ा से डरते हैं 4.khun ka rista Kyu muskilo me sath dete he dost  Kyu gam ko baat lete he dost  Na rista khun ka ka rivaaj se bandha  Fir bhi jindgi bhar sath dete he d

Hindi romantic shayari, latest romantic shayari

  Hindi romantic shayari 1. मुझे फ़िज़ूल में गालियां बक रहे हो तुम मैने उसका दिल नहीं तोड़ा, वो खुद चली है मुझे छोड़ कर मैने उसे नहीं छोड़ा muze fizul me gaaliya bak rahe ho tum mene uska dil nahi toda, vo khud chali he muze chhodkar mene use nahi chhoda 2. सुना था कि सिशा बेवफाओं को देखकर टूट जाता है, वो सामने थी मैने इसे नहीं तोड़ा sunaa tha ki shisha bewfaao ko dekhkar tut jaata  he, vo saamne thi mene ishe nahi toda 3. मुझसे नाराज़ हो तो आशु बहालो,और लगाना ही है तो गले लगालो ,और ये व्हाट्स इंस्टा की बाते मुझे सामजमे नहीं आती बात ही करनी है तो फोन लगालो muzse naaraz ho to aashu bahaalo,aur lagaana hi he to gale lagaalo,aur ye WhatsApp insta ki baate muze samzme nahi aati baat hi karni he to phon lagaalo 4. रख अपने दिल पर हाथ और पूछ अपने खुदा से तुझे मुझसे ज्यादा कोई चाह सकता है,और में जानता हूं कि तू किस्मत बुरी है,पर एशी बुरी किस्मत अपने लिए कोई मांग सकता हैं rakh apne dil par hath aur puchh apne khuda se tuze muzse jyadaa koi chah skta he,aur me janta hu ki tu kismat buri he,par e

Hindi attitude shayari , new attitude shayari

  attitude shayari:-                             1.      Ye to ham he jo apna pyar nibha  rahe he jis din chodkar chale  jayenge aukaat pata chal jayegi ये तो हम है कि जो अपना प्यार निभा रहे है, जिस दिन छोड़कर चले जायेंगे‪ औकात   पता चल जाएगी तुझे खुद की                            2. Andaz kuch alag he mera  sab ki attitude ka shouk he  muze attitude todne ka  अंदाज़ कुछ अलग है मेरा सब को  ATTITUDE का शौक है,  मुझे ATTITUDE तोडने का                        3. Ham bhi navab he logo ki akad Dhue ki tarah udakar aukat sigaret Ki tarah choti kar dete he  हम भी नवाब है लोगों  की अकड़  धूएँ  की तरह उड़ाकर, औकात सिगरेट   की तरह छोटी  कर देते है ।                      4. Pareshan na hua karo logo  ki baato se kuch log peda  hi bakvas karne ke liye hote he  परेशान ना हुआ करो लोगों की  बातों से कुछ लोग पैदा ही बकवास  करने के लिए हुए होते हैं।                         5. Rahe badle ya badle waqt ham to  apni manzil payenge jo samzate he  khud ko badshah bhi ek din use apne  darbar me jarur nachayeng