Skip to main content

Hindi romantic shayari, latest romantic shayari

  Hindi romantic shayari 1. मुझे फ़िज़ूल में गालियां बक रहे हो तुम मैने उसका दिल नहीं तोड़ा, वो खुद चली है मुझे छोड़ कर मैने उसे नहीं छोड़ा muze fizul me gaaliya bak rahe ho tum mene uska dil nahi toda, vo khud chali he muze chhodkar mene use nahi chhoda 2. सुना था कि सिशा बेवफाओं को देखकर टूट जाता है, वो सामने थी मैने इसे नहीं तोड़ा sunaa tha ki shisha bewfaao ko dekhkar tut jaata  he, vo saamne thi mene ishe nahi toda 3. मुझसे नाराज़ हो तो आशु बहालो,और लगाना ही है तो गले लगालो ,और ये व्हाट्स इंस्टा की बाते मुझे सामजमे नहीं आती बात ही करनी है तो फोन लगालो muzse naaraz ho to aashu bahaalo,aur lagaana hi he to gale lagaalo,aur ye WhatsApp insta ki baate muze samzme nahi aati baat hi karni he to phon lagaalo 4. रख अपने दिल पर हाथ और पूछ अपने खुदा से तुझे मुझसे ज्यादा कोई चाह सकता है,और में जानता हूं कि तू किस्मत बुरी है,पर एशी बुरी किस्मत अपने लिए कोई मांग सकता हैं rakh apne dil par hath aur puchh apne khuda se tuze muzse jyadaa koi chah skta he,aur me janta hu ki tu kismat buri he,par e

Hindi romantic shayari, latest romantic shayari

 Hindi romantic shayari



1.


मुझे फ़िज़ूल में गालियां बक रहे हो तुम मैने उसका दिल नहीं तोड़ा, वो खुद चली है मुझे छोड़ कर मैने उसे नहीं छोड़ा


muze fizul me gaaliya bak rahe ho tum mene uska dil nahi toda, vo khud chali he muze chhodkar mene use nahi chhoda



2.


सुना था कि सिशा बेवफाओं को देखकर टूट जाता है,

वो सामने थी मैने इसे नहीं तोड़ा


sunaa tha ki shisha bewfaao ko dekhkar tut jaata  he, vo saamne thi mene ishe nahi toda



3.


मुझसे नाराज़ हो तो आशु बहालो,और लगाना ही है तो गले लगालो ,और ये व्हाट्स इंस्टा की बाते मुझे सामजमे नहीं आती बात ही करनी है तो फोन लगालो


muzse naaraz ho to aashu bahaalo,aur lagaana hi he to gale lagaalo,aur ye WhatsApp insta ki baate muze samzme nahi aati baat hi karni he to phon lagaalo



4.


रख अपने दिल पर हाथ और पूछ अपने खुदा से तुझे मुझसे ज्यादा कोई चाह सकता है,और में जानता हूं कि तू किस्मत बुरी है,पर एशी बुरी किस्मत अपने लिए कोई मांग सकता हैं


rakh apne dil par hath aur puchh apne khuda se tuze muzse jyadaa koi chah skta he,aur me janta hu ki tu kismat buri he,par eshi buri kismat apne liye koi mang sakta he 



5.


कुछ याद नहीं आ रहा तुमने याद करना चालू कर दिया क्या, बेवाफाओ के किशे नहीं लिख रहा तुमने प्यार करना चालू कर दिया क्या


kuchh yaad nahi aa raha tumne yaad karna chalu kar diya kya,bewfaao ke kichhe nahi likhe raha tumne pyar karna chalu kar diya kya 



6.


तुमसे एक बात करनी थी करोगी,तुम्हे बाहों में भरना था भरोगी, और इश्क़ तो तुमसे होगा नहीं चलो नफरत   करते है करोगी


tumse ek baat karni thi karogi, tumhe baho me bharna tha bharogi, aur isqa to tumse hoga nahi chalo nafrat karte he karogi



7.


जितनी सीधी नहीं है उतनी मत बना कर, और हर किसी को अपनी फ्रेंड लिस्ट में मत रखा कर और सुन पापा कि परी जहा है वहीं रहे बेवजाह आशमन में मत उड़ा कर


jitni sidhi nahi he utni mat banaa kar, aur har kishi ko apni friend list me mat rakha kar aur sun papa ki pari jaha he vahi rahe bewjaah aashman me mat uda kar



8.


मिट्टी के घर पथहर के मकानों से अच्छे होते है, और दिल बेवफाओं के सस्ते होते है और तुम जरा तहेजिल से बात किया करो अपनी वाली से ये आज कल के रिश्ते तहेजिल के कच्चे होते है


mitti ke ghar paththr ke makaano se achhe hote he, aur dil bewfaao ke saste hote he aur tum jara tahejil se baat kiya karo apni vaali se ye aaj kal ke riste tahejil ke kache hote he



9.


तु दूर है मुझसे ये अलग बात है, हम मझोबात भी ना निभाए ये ग़लत बात है, और तेरा हकीकत में मिलना मुनशिफ नहीं शायद

तू आ कर ख्वाबों में मिल लिया तो क्या बात है


tu dur he muzse ye alag baat he, ham mahobbat bhi naa nibhaye ye galat baat he, aur tera hakikat me milana munaasif nahi shayad tu aa kar khvabo me mil liya to kya baat he



10


यूं तो ये राते कत जाती है मगर तू साथ हो तो क्या बात है, तू जल्द बाज़ी में मिलने आए कभी फिर जाने की जिद करे फिर तेज बरसात हो जाए तो क्या बात है


yu to ye raate kat jaati he magar tu sath ho to kya baat he, tu jald baazi me milane aayi kabhi firr  jaane ki jid kare fir tez barsaat ho jaaye to kya baat he



11.


तू साथ है मेरे ये तो मालूम है, मगर किस्मत भी साथ दे तो क्या बात है


tu sath he mere yr to maalum he, magar kismat bhi sath de to kya baat he



12.


उस शकश ने अकेले ना छोड़ा हमें, कभी वो साथ थी आज उसकी यादे साथ है


us shaksh ne akele naa chhoda hame , kabhi vo sath thi aaj uski yaade sath he

Comments

Popular posts from this blog

Latest Dosti shayari, friendship shayari, dosti shayari image

  Latest Dosti shayari, friendship shayari, dosti shayari image 1.rista Pyar karne valo ki kismat buri hoti  he har Milan judai se hoti he risto  ko bhi kabhi parakh Kar dekhna  dosti har riste se badi hoti he  प्यार करने वालों की किस्मत बहुत बुरी होती है, और  हर  मिलन जुदाई से होता है, रिस्तो को कभी परख  कर देख लेना दोस्ती हर रिश्ते से बड़ी होती है! 2.Dard Dard ko dard se na dekho  Dard ko bhi dard hota he  Dard ko jarurat he dost ki  Aakhir dost hi dard me hamdard hota he  दर्द को दर्द से ना देखो  दर्द को भी दर्द होता है  दर्द को जरूरत है दोस्त की  आखिर दोस्त ही दर्द में हमदर्द होता है  3.Vafa Gunah karke sajaa se darte he  Zahar pi ke davaa se darte he  Dusmno ke sitam ka khouf nahi Ham to dosto ki vafa se darte he  गुनाह करके सज़ा से डरते हैं  जहर पी के दवा से डरते हैं  दुश्मनों के सितम का खौफ नहीं  हम तो दोस्तों की वफ़ा से डरते हैं 4.khun ka rista Kyu muskilo me sath dete he dost  Kyu gam ko baat lete he dost  Na rista khun ka ka rivaaj se bandha  Fir bhi jindgi bhar sath dete he d

Hindi attitude shayari , new attitude shayari

  attitude shayari:-                             1.      Ye to ham he jo apna pyar nibha  rahe he jis din chodkar chale  jayenge aukaat pata chal jayegi ये तो हम है कि जो अपना प्यार निभा रहे है, जिस दिन छोड़कर चले जायेंगे‪ औकात   पता चल जाएगी तुझे खुद की                            2. Andaz kuch alag he mera  sab ki attitude ka shouk he  muze attitude todne ka  अंदाज़ कुछ अलग है मेरा सब को  ATTITUDE का शौक है,  मुझे ATTITUDE तोडने का                        3. Ham bhi navab he logo ki akad Dhue ki tarah udakar aukat sigaret Ki tarah choti kar dete he  हम भी नवाब है लोगों  की अकड़  धूएँ  की तरह उड़ाकर, औकात सिगरेट   की तरह छोटी  कर देते है ।                      4. Pareshan na hua karo logo  ki baato se kuch log peda  hi bakvas karne ke liye hote he  परेशान ना हुआ करो लोगों की  बातों से कुछ लोग पैदा ही बकवास  करने के लिए हुए होते हैं।                         5. Rahe badle ya badle waqt ham to  apni manzil payenge jo samzate he  khud ko badshah bhi ek din use apne  darbar me jarur nachayeng