Skip to main content

Posts

Showing posts from October, 2020

Latest Hindi attitude shayari, best hindi attitude shayari, attitude status

New hindi attitude shayari
1.मेरी आंखो में जो तुम देख रहे हो वो कोई मामूली चिंगारी नहीं है और हमारे महोले में आ कर हमें ही ललकार रहे हो लगता है तुम्हे जान प्यारी नहीं है
meri aakho me jo tum dekh rahe ho vo koi mamuli chingari nahi he aur hamare mahole me aakar hame hi lalkar rahe ho lagataa he tumhe jaan pyari nahi he 

2.मौत से रूबरू अभी करवा दूंगा, मेरी आखों में आखे डालकर बात तो करले और क्या कहा था मेरा वंश मिटा देगा , अरे पहले अपने वंस की शुरुआत तो करले
maut se rubru abhi karva dunga meri aakho me aakhe daalkar baat to karle aur kya kaha tha mera vansh mitaa dega , are pahle apne vansh ki suruaat to karle

3.दुनिया बुरे वक़्त से दर जाती है और में बुरे वक़्त को अपना हुज़ूर मानता हूं और कल क्या होगा में कुछ नहीं जानता  कल कुछ करना है ये जरूर जानता हूं
duniya bure waqt se dar jaati he aur me bure waqt ko apna hujur maanta hu aur kal kya hoga me kochh nahi jaanta kal kuchh karna he jarur jaanta hu

4.बस एक बार बेडिया खुलने की दर है इन सारे परिंदो को मिट्ठी में जकड़ लूंगा,और तुम मांगते रहेना अपन…

Latest Hindi attitude shayari, best hindi attitude shayari, attitude status

New hindi attitude shayari
1.मेरी आंखो में जो तुम देख रहे हो वो कोई मामूली चिंगारी नहीं है और हमारे महोले में आ कर हमें ही ललकार रहे हो लगता है तुम्हे जान प्यारी नहीं है
meri aakho me jo tum dekh rahe ho vo koi mamuli chingari nahi he aur hamare mahole me aakar hame hi lalkar rahe ho lagataa he tumhe jaan pyari nahi he 

2.मौत से रूबरू अभी करवा दूंगा, मेरी आखों में आखे डालकर बात तो करले और क्या कहा था मेरा वंश मिटा देगा , अरे पहले अपने वंस की शुरुआत तो करले
maut se rubru abhi karva dunga meri aakho me aakhe daalkar baat to karle aur kya kaha tha mera vansh mitaa dega , are pahle apne vansh ki suruaat to karle

3.दुनिया बुरे वक़्त से दर जाती है और में बुरे वक़्त को अपना हुज़ूर मानता हूं और कल क्या होगा में कुछ नहीं जानता  कल कुछ करना है ये जरूर जानता हूं
duniya bure waqt se dar jaati he aur me bure waqt ko apna hujur maanta hu aur kal kya hoga me kochh nahi jaanta kal kuchh karna he jarur jaanta hu

4.बस एक बार बेडिया खुलने की दर है इन सारे परिंदो को मिट्ठी में जकड़ लूंगा,और तुम मांगते रहेना अपन…