Skip to main content

Hindi romantic shayari, latest romantic shayari

  Hindi romantic shayari 1. मुझे फ़िज़ूल में गालियां बक रहे हो तुम मैने उसका दिल नहीं तोड़ा, वो खुद चली है मुझे छोड़ कर मैने उसे नहीं छोड़ा muze fizul me gaaliya bak rahe ho tum mene uska dil nahi toda, vo khud chali he muze chhodkar mene use nahi chhoda 2. सुना था कि सिशा बेवफाओं को देखकर टूट जाता है, वो सामने थी मैने इसे नहीं तोड़ा sunaa tha ki shisha bewfaao ko dekhkar tut jaata  he, vo saamne thi mene ishe nahi toda 3. मुझसे नाराज़ हो तो आशु बहालो,और लगाना ही है तो गले लगालो ,और ये व्हाट्स इंस्टा की बाते मुझे सामजमे नहीं आती बात ही करनी है तो फोन लगालो muzse naaraz ho to aashu bahaalo,aur lagaana hi he to gale lagaalo,aur ye WhatsApp insta ki baate muze samzme nahi aati baat hi karni he to phon lagaalo 4. रख अपने दिल पर हाथ और पूछ अपने खुदा से तुझे मुझसे ज्यादा कोई चाह सकता है,और में जानता हूं कि तू किस्मत बुरी है,पर एशी बुरी किस्मत अपने लिए कोई मांग सकता हैं rakh apne dil par hath aur puchh apne khuda se tuze muzse jyadaa koi chah skta he,aur me janta hu ki tu kismat buri he,par e

Hindi dard shayari, new dard shayari, sad shayari

 

Hindi dard shayari


                          1.


हम हारे है तो क्या हुआ ज़माने से,

कुछ पानी ही तो छलका है पैमाने से

खुद से जीत जाए बस एक ख्वाब बाकी है

मद होस करने लायक सराब उनके लबो पर

 ही काफी है,


ham hare he to kya hua zamane se 

kuch pani hi ti chalaka he pemane se

khud se jit jaaye bas ek khvab baaki he

madhis karne layak sarab unke labo par hi kafi he

                           2.


शायद पुराना कोई ज़खम भर गया है

आपके आशु क्यों नहीं रुक रहे

क्या आखो में आपकी गगन भर गया है ।


shayad purana koi zakhm bhar gaya he 

aapke aashu kyo nahi ruk rahe

kya aakho me aapki gagan bhar gaya he


                           3.


उसके जैसी मुझे अपनी जुबानी करनी पड़ी 

कर तो सकता था बाते इधर उधर की बहोट

मगर कुछ लोगो में बाते मुझे खानदानी करनी पड़ी

अपनी आंखो से देखा था मंज़र बेवफ़ाई का

सुना तो फ़िज़ूल हैरानी करनी पड़ी।


uske jesi muze apni jubani karni padi 

kar to sakhta tha baate idhar udhar ki bahot 

magar kuch logo me baate muze khandani karni padi apni aakho se dekha. tha manzar bewfaika suna to fizul herani karni padi



                           4.


पलकोने बहोत समझाया मगर ये आख नहीं मानी

दिन तो हस कर गुज़ारा हमने मगर रात नहीं मानी

 और बिस्तर की सलवटें दे रही थी गवाही गेर की

हमने करवट बदल ली लेकिन ये बात नहीं मानी।


palkone bahot samzaya magar ye aakh nahi mani din to has kar gujara hamne magar raat nai mani bistar ki salvate de rahi thi gavahi ger ki hamane karvat badal li lekin ye baat nahi mani



                             5.


मेरे गमो में मेरी हिस्सेदार नहीं लगती

 और ये लड़की मेरी कहानी का किरदार नहीं लगती

उसकी फिकर करू तो हुकूमत बताती है

यार ये लड़की मुझे समझदार नहीं लगती


mene gami me meri hisedari nahi lagti 

aur ye ladki meri kahani ka kirdar nagi lagti uski fikar karu to hukumat batati he yaar ye ladki muze samzdaar nahi lagati 


                             6.


में हकीकत जानता हूं फिर्भी छुपाती है बाते

मु पर जुउठ बोलती है यार ईमानदार नहीं लगती


me hakikat jaanta hu fir bhi chupati he baate muh par juth bolti he yaar imandar nahi lagti



                             7. 


मुझे जुकना पड़ता है उसकी गलती के आगे

गुनाह इतना चालाकी से करती है गुनेगार नहीं लगती।


muze zukana padta he uski galti ke aage 

gunaah itna chalaki se karti he gunegaar nahi lagti



                             8.


डरता था सिहरतो से में पर उस चांद से चड अब खुमार रहा था इक रोज़ लिपट कर सोए थी वो गेर से

उस सर्द रात मुझे बहोट बुखार रहा था

मालूम नाथी बेवफ़ाई खुदके महबूब की

और में शहर के हर घर में बाट अख़बार रहा था।


darata tha sihrato se ne par us chand se chad ab khumar raha tha ek roz lipat kar soyi thi vo ger se us sard raat muze bahot bukhar raha tha malum naathi bewfaai khudke mahebub ki aur me sahar ke har ghar me baat akhbaar raha tha.


 

                                9.


सारी रात उसे सुने से डरता रहा 

में बेबस बेचैन करवटें बदलता रहा

और हाथ तो मेरा ही था उसके हाथ में लेकिन

पर बात ये है कि ज़िक्र किसी और का चलता रहता है


saari eaat use sunane se darta raha me bebas bechen karvate badlta raha aur haath to nera hi tha uske hath me lekin par baat ye he ki jikr kisi aur ka chalta rahata he.



                            10.


मेरे घर में आते ही बेफिजूल की बाते बनाने लगती है

हर बात से बेखबर हूं न जाने किस सख्स से पहेचान करा रही है,किसी डर में है सायद ना जाने क्यों 

बिस्तर से बार बार सलवटे हटा रही है


mere ghar me aate hi befizul ki baate banane lagti he har baat se bekhabar hu na jaane kis shkhas se pahechan kara rahi he kisi dar me he shayad na jaane kyo bistar se baar baar salvte hata rahi he.



11.


वो कहेटे है कि तुम्हे क्या फर्क पड़ता है,मैने कहा कभी मुज्को खुदके अंदर समा कर देखना , जब खून मेरा बहेगा तब आशु तुम्हारे भी आएंगे


vo kahete he ki tumhe kya fark padtaa he, mene kaha kabhi musko khudke andar samaa kar dekhna , jab khun mera bahega tab aashu tumhare bhi aayenge



12.


एक तेरे ना कहेने के डरने मेरी महॉबत और बढ़ादी, में अब इजहारे इस्क अपना आयने के सामने जाता देता हूं


ek tere naa kahene ke darne meri mahobbt aur badha di, me ab ijhaare ishq apna aayne ke saamne jataa deta hu



13.


ये कैसा इस्क है जो दर्द के शोड़ागर में हमदर्द दिखा है

उसकी यादों के सावन के बिना सर्द दिखा है, और लबो से मैने ग़ज़ल लिखी थी उसकी पीठ पर कल रातको,उसमे मतलें में इस्क और हर एक शेर में दर्द लिखा है


ye kesha ishq he jo dard ke shodagar me ham dard dikha he,uski yaado ke shavan ke binaa shard dikha he, aur labo se mene gazal likhi thi uski pith par kal raat ko, usme matale me ishq aur har sher me dard likha he



14.


कुछ रहा ही नहीं मेरे मयस्कर मेरे दामन में शाकी की तुम अपनी नजर की कशिस की मेरे जाम में गुबार दो, और क्या कहा इस्क और दोबारा वो भी तुमसे इसे अच्छा ये लो खंजर और मेरे सीने में उतार दो


kuch raha hi nahi mere mayaskr mere daman me shaki ki tum apani nazar ki kashis ki mere jaam me gubaar do,aur kya kaha ishq aur dobaara vo bhi tumse , ise achha ye lo khanzar aur mere sine me utar do




Comments

Popular posts from this blog

Latest Dosti shayari, friendship shayari, dosti shayari image

  Latest Dosti shayari, friendship shayari, dosti shayari image 1.rista Pyar karne valo ki kismat buri hoti  he har Milan judai se hoti he risto  ko bhi kabhi parakh Kar dekhna  dosti har riste se badi hoti he  प्यार करने वालों की किस्मत बहुत बुरी होती है, और  हर  मिलन जुदाई से होता है, रिस्तो को कभी परख  कर देख लेना दोस्ती हर रिश्ते से बड़ी होती है! 2.Dard Dard ko dard se na dekho  Dard ko bhi dard hota he  Dard ko jarurat he dost ki  Aakhir dost hi dard me hamdard hota he  दर्द को दर्द से ना देखो  दर्द को भी दर्द होता है  दर्द को जरूरत है दोस्त की  आखिर दोस्त ही दर्द में हमदर्द होता है  3.Vafa Gunah karke sajaa se darte he  Zahar pi ke davaa se darte he  Dusmno ke sitam ka khouf nahi Ham to dosto ki vafa se darte he  गुनाह करके सज़ा से डरते हैं  जहर पी के दवा से डरते हैं  दुश्मनों के सितम का खौफ नहीं  हम तो दोस्तों की वफ़ा से डरते हैं 4.khun ka rista Kyu muskilo me sath dete he dost  Kyu gam ko baat lete he dost  Na rista khun ka ka rivaaj se bandha  Fir bhi jindgi bhar sath dete he d

Hindi romantic shayari, latest romantic shayari

  Hindi romantic shayari 1. मुझे फ़िज़ूल में गालियां बक रहे हो तुम मैने उसका दिल नहीं तोड़ा, वो खुद चली है मुझे छोड़ कर मैने उसे नहीं छोड़ा muze fizul me gaaliya bak rahe ho tum mene uska dil nahi toda, vo khud chali he muze chhodkar mene use nahi chhoda 2. सुना था कि सिशा बेवफाओं को देखकर टूट जाता है, वो सामने थी मैने इसे नहीं तोड़ा sunaa tha ki shisha bewfaao ko dekhkar tut jaata  he, vo saamne thi mene ishe nahi toda 3. मुझसे नाराज़ हो तो आशु बहालो,और लगाना ही है तो गले लगालो ,और ये व्हाट्स इंस्टा की बाते मुझे सामजमे नहीं आती बात ही करनी है तो फोन लगालो muzse naaraz ho to aashu bahaalo,aur lagaana hi he to gale lagaalo,aur ye WhatsApp insta ki baate muze samzme nahi aati baat hi karni he to phon lagaalo 4. रख अपने दिल पर हाथ और पूछ अपने खुदा से तुझे मुझसे ज्यादा कोई चाह सकता है,और में जानता हूं कि तू किस्मत बुरी है,पर एशी बुरी किस्मत अपने लिए कोई मांग सकता हैं rakh apne dil par hath aur puchh apne khuda se tuze muzse jyadaa koi chah skta he,aur me janta hu ki tu kismat buri he,par e

Hindi attitude shayari , new attitude shayari

  attitude shayari:-                             1.      Ye to ham he jo apna pyar nibha  rahe he jis din chodkar chale  jayenge aukaat pata chal jayegi ये तो हम है कि जो अपना प्यार निभा रहे है, जिस दिन छोड़कर चले जायेंगे‪ औकात   पता चल जाएगी तुझे खुद की                            2. Andaz kuch alag he mera  sab ki attitude ka shouk he  muze attitude todne ka  अंदाज़ कुछ अलग है मेरा सब को  ATTITUDE का शौक है,  मुझे ATTITUDE तोडने का                        3. Ham bhi navab he logo ki akad Dhue ki tarah udakar aukat sigaret Ki tarah choti kar dete he  हम भी नवाब है लोगों  की अकड़  धूएँ  की तरह उड़ाकर, औकात सिगरेट   की तरह छोटी  कर देते है ।                      4. Pareshan na hua karo logo  ki baato se kuch log peda  hi bakvas karne ke liye hote he  परेशान ना हुआ करो लोगों की  बातों से कुछ लोग पैदा ही बकवास  करने के लिए हुए होते हैं।                         5. Rahe badle ya badle waqt ham to  apni manzil payenge jo samzate he  khud ko badshah bhi ek din use apne  darbar me jarur nachayeng